रविवार व्रत की विधि || Ravivar Vrat Ki Vidhi || Ravivar Vrat Puja Vidhi

रविवार व्रत की विधि || Ravivar Vrat Ki Vidhi || Ravivar Vrat Puja Vidhi

हम यंहा आपको रविवार व्रत की विधि के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 ravivar vrat ki vidhi by acharya pandit lalit sharma 

रविवार व्रत की विधि || Ravivar Vrat Ki Vidhi || Ravivar Vrat Puja Vidhi

रविवार व्रत कब करें : ravivar vrat kab shuru kare in hindi : 

रविवार व्रत की शुरुआत महीने के शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार या आश्विन मास के शुक्ल पक्ष शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार से करना चाहिए ! जातक को रविवार के व्रत एक साल या पांच वर्ष नियमित रूप से श्रद्धा के साथ विधिपूर्वक करना चाहिए ! 

रविवार व्रत पूजा सामग्री : ravivar vrat pooja samagri in hindi : 

शुद्ध जल, कुमकुम या लाल चंदन !

Join Now : सरकारी योजना की जानकरी के लिए : Click Here

Join Now : बिहार शिक्षा समाचार जानकारी के लिए : Click Here

Join Now : सेंटल शिक्षा समाचार जानकारी के लिए : Click Here

रविवार व्रत पूजा विधि : ravivar vrat puja vidhi in hindi : 

रविवार व्रत करने वाले जातक को स्नान करके लाल वस्त्र धारण करने चाहिए ! ताबें के लोटे में शुद्ध जल लेकर उसमें कुमकुम या लाल चंदन मिलाकर उगते हुए सूर्य को जल देना चाहिए ! उसके बाद रविवार की व्रत कथा पढ़कर सूर्य ग्रह स्तोत्र का पाठ करे उसके बाद श्री सूर्य चालीसा का पाठ करके रविवार व्रत की आरती करें ! और दिए गये मन्त्र की तीन माला का जाप करें ! मन्त्र : “ॐ ह्रं ह्रीं ह्रोंम सः सूर्य नम:॥” 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

रविवार व्रत का खाना : ravivar ke vrat ka khana in hindi : 

रविवार व्रत करने वाले व्यक्ति को सूर्य अस्त होने से पहले शाम को एक समय भोजन करना चाहिए ! भोजन एक समय नमक रहित होना चाहिए ! यदि निराहार रहने वाले जातक को अगले दिन सुर्य को जल देने के बाद हीं भोजन करना चाहिए ! 

रविवार व्रत के लाभ : ravivar vrat ke labh in hindi : 

रविवार का व्रत करने से भगवान श्री सूर्य देव जी को प्रसन्न करने के लिए रखा जाता हैं ! इसके साथ साथ रविवार व्रत जब भी किया जाता है जब आपकी कुंडली में सूर्य ग्रह अच्छा परिणाम ना दे रहा हो या दशा और अंतर्दशा में अच्छा परिणाम नही दे रहा हो तो भी रविवार व्रत करना लाभदायक रहता हैं ! रविवार व्रत करने जातक को यश प्राप्ति, मान सम्मान में बढ़ोतरी, अपने शत्रु पे विजय, सुख-समृद्धि, धन-संपत्ति, नेत्र रोग, कुष्ठ रोग आदि दुष्प्रभाव से मुक्ति मिलती हैं !

Join Now : सरकारी योजना की जानकरी के लिए : Click Here

Join Now : बिहार शिक्षा समाचार जानकारी के लिए : Click Here

Join Now : सेंटल शिक्षा समाचार जानकारी के लिए : Click Here

रविवार के दिन क्या न करें : ravivar ke din kya na kare in hindi : 

रविवार व्रत के जातक को तेल का सेवन करना चाहिए ! 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page