प्रदोष व्रत की विधि ( Pradosh Vrat Ki vidhi ) Pradosh Vrat Udyapan Vidhi

प्रदोष व्रत की विधि [ Pradosh Vrat Ki vidhi & Pradosh Vrat Udyapan Vidhi ] 

हम यंहा आपको प्रदोष व्रत की विधि, pradosh vrat vidhi in hindi, pradosh vrat method in hindi, प्रदोष व्रत विधि, pradosh vrat ki vidhi in hindi, प्रदोष व्रत पूजा विधि, pradosh vrat puja vidhi in hindi, प्रदोष पूजा सामग्री, pradosh puja samagri in hindi, त्रयोदशी प्रदोष व्रत पूजा विधि, trayodashi pradosh vrat puja vidhi in hindi, त्रयोदशी प्रदोष व्रत की विधि, trayodashi pradosh vrat ki vidhi in hindi, प्रदोष व्रत उद्यापन विधि, pradosh vrat udyapan vidhi in hindi, त्रयोदशी व्रत उद्यापन विधि, trayodashi vrat udyapan vidhi in hindi, pradosh vrat ka udyapan kaise kare in hindi, pradosh vrat ka udyapan ki vidhi in hindi आदि के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 pradosh vrat vidhi by acharya pandit lalit sharma 

प्रदोष व्रत की विधि !! pradosh vrat vidhi in hindi

प्रदोष पूजा सामग्री : pradosh puja samagri in hindi

एक लोटे में शुद्ध जल, कुशा का आसन, ऋतुफल, घी का दीपक, धूपबत्ती ! 

साधना Whatsapp ग्रुप्स

तंत्र-मंत्र-यन्त्र Whatsapp ग्रुप्स

ज्योतिष व राशिफ़ल Whatsapp ग्रुप्स

Daily ज्योतिष टिप्स Whatsapp ग्रुप्स

प्रदोष व्रत की विधि : pradosh vrat ki vidhi in hindi 

ब्रह्ममुहूर्त में उठकर नित्यकर्मों से निवृत्त हो भगवान शंकर का स्मरण करें । निराहार रहें । सायंकाल, सूर्यास्त से एक घण्टा पूर्व, स्नानादि कर्मों से निवृत्त हो श्‍वेत वस्त्र धारण करें । पूजन स्थल को स्वच्छ जल और गाय के गोबर से लीपकर मंडप को भली-भांति सजाकर पांच रंगों को मिलाकर पद्म पुष्प की आकृति बनाकर कुशा के आसन पर उत्तर-पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठें और शंकर भगवान का पूजन करें ।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

‘ॐ नमः शिवाय’ इस पंचाक्षर मन्त्र का जाप करते हुए जल चढ़ावें और ऋतुफल अर्पित करें । जल चढ़ाते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जलधारा टूटे नहीं । इसी प्रकार मंत्र का जप लयबद्ध हो । जल चढ़ाते समय यदि आंखें खुली हुई हैं, तो दृष्टि जलधारा पर टिकी हो और यदि भाव में आंखें मुंद गयी हों, तो ध्यान जप के शब्दों-अर्थों के साथ चल रहा हो । यदि मंत्र के उच्चारण में गूंज पैदा कर सकें अर्थात् मंत्र यदि ओंठ, कंठ और नाभिप्रदेश से समन्वित रूप से उठे, तो यह और प्रभावी होगा । उसके बाद घी का दीपक जलाकर धुप बत्ती जलाये और वार अनुसार व्रत कथाएं पढ़कर या सुनकर श्री शिव जी आरती करें ! 

प्रदोष व्रत उद्यापन विधि : pradosh vrat udyapan vidhi in hindi

विधि-विधान से इस व्रत को करने पर सभी कष्ट दूर होते हैं और इच्छित वस्तु की प्राप्ति होती है । धर्मालुओं को ग्यारह त्रयोदशी अथवा वर्ष भर की २६ त्रयोदशी के व्रत करने के उपरान्त उद्यापन करना चाहिए ।

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

कार्य सिद्धि के उपरान्त त्रयोदशी के दिन ही उद्यापन करें । एक दिन पूर्व गणेश पूजन करें । रात्रि में भजन-कीर्तन द्वारा जागरण करें । प्रातः स्नानादि के उपरान्त रंगीन पद्म-पुष्प अथवा वस्त्रों से मंडप को सजाएं । मंडप में शिव-पार्वती की मूर्ति स्थापित कर विधिपूर्वक पूजन करें । हवन में खीर की आहुति देते हुए ‘ॐ उमा सहित शिवाय नमः’ मन्त्र का १०८ बार जप करें । हवन के बाद आरती उतारें और शान्ति पाठ करें । तत्पश्‍चात् दो ब्राह्मणों को भोजन कराएं तथा यथाशक्ति दान दें । ब्राह्मणों का आशीर्वाद लें ।

ADS : सरकारी नौकरी संबधित लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए इस Website पर जाए : Click Here

स्कन्ध पुराण में कहा गया है कि जो स्त्री-पुरुष विधि-विधान के साथ यह व्रत एवं उद्यापन करते हैं, भगवान शंकर-पार्वती उनकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं । फलस्वरूप उन्हें मोक्ष प्राप्त होता है ।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*