श्री शनि चालीसा ( Shri Shani Chalisa ) Shani Chalisa

       

श्री शनि चालीसा [ Shri Shani Chalisa & Shani Chalisa ] 

श्री शनि चालीसा के लाभ : shri shani chalisa ke labh : श्री शनि चालीसा का रोजाना जाप करने से शनि सम्बन्धित हो रही परेशानी से निजात मिलेगा ! श्री शनि चालीसा का रोजाना पाठ करने से शनि ग्रह अपना बुरा प्रभाव छोड़कर अच्छा फ़ल देने लग जाता हैं ! श्री शनि चालीसा, shri shani chalisa in hindi, shani chalisa in hindi, श्री शनि चालीसा के फ़ायदे, shri shani chalisa ke fayde in hindi, श्री शनि चालीसा के लाभ, shri shani chalisa ke labh in hindi, shri shani chalisa mp3 download, shri shani chalisa pdf in hindi, shri shani chalisa lyrics in hindi, shri shani chalisa ke benefits in hindi आदि के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 shri shani chalisa by acharya pandit lalit sharma 

Related Post : 

शनि ग्रह के उपाय || Shani Graha Ke Upay

शनि ग्रह की शांति के उपाय || Shani Grah Ki Shanti Ke Upay

शनि को मजबूत करने के उपाय || Shani Ko Majboot Karne Ke Upay

शनि को प्रसन्न करने के उपाय || Shani Ko Prasan Karne Ke Upay

शनि की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Shani Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

शनि ग्रह के लाल किताब उपाय || Shani Grah Ke Lal Kitab Upay

शनि ग्रह के मंत्र || Shani Grah Ke Mantra

श्री शनि चालीसा !! shri shani chalisa in hindi

जय गणेश गिरिजा सुवनमंगल  करण कृपाल।

दीनन के दुःख दूर करिकीजै नाथ  निहाल ॥

जय जय श्री शनिदेव प्रभुसुनहु विनय महाराज।

करहु कृपा हे रवि तनयराखहु जन की लाज ॥

जयति जयति शनिदेव दयाला । करत सदा भक्तन प्रतिपाला ॥

चारि भुजा, तनु श्याम विराजै । माथे रतन मुकुट छवि छाजै ॥

परम विशाल मनोहर भाला । टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला ॥

कुण्डल श्रवन चमाचम चमके । हिये माल मुक्तन मणि दमकै ॥

कर में गदा त्रिशूल कुठारा । पल बिच करैं अरिहिं संहारा ॥

पिंगल, कृष्णो, छाया, नन्दन । यम, कोणस्थ, रौद्र, दुःख भंजन ॥

सौरी, मन्द शनी दश नामा । भानु पुत्र पूजहिं सब कामा ॥

जापर प्रभु प्रसन्न हवैं जाहीं । रंकहुं राव करैं क्षण माहीं ॥

पर्वतहू तृण होइ निहारत । तृणहू को पर्वत करि डारत ॥

राज मिलत वन रामहिं दीन्हयो । कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो ॥

वनहुं में मृग कपट दिखाई । मातु जानकी गई चुराई ॥

लषणहिं शक्ति विकल करिडारा । मचिगा दल में हाहाकारा ॥

रावण की गति-मति बौराई । रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई ॥

दियो कीट करि कंचन लंका । बजि बजरंग बीर की डंका ॥

नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा । चित्र मयूर निगलि गै हारा ॥

हार नौलखा लाग्यो चोरी । हाथ पैर डरवायो तोरी ॥

भारी दशा निकृष्ट दिखायो । तेलहिं घर कोल्हू चलवायो ॥

हमारे Youtube चैनल को अभी SUBSCRIBES करें ||

मांगलिक दोष निवारण || Mangal Dosha Nivaran

दी गई YouTube Video पर क्लिक करके मांगलिक दोष के उपाय || Manglik Dosh Ke Upay बहुत आसन तरीके से सुन ओर देख सकोगें !

विनय राग दीपक महँ कीन्हयों । तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों ॥

हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी । आपहुं भरे डोम घर पानी ॥

तैसे नल पर दशा सिरानी । भूंजी-मीन कूद गई पानी ॥

श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई । पारवती को सती कराई ॥

तनिक विकलोकत ही करि रीसा । नभ उड़ि गतो गौरिसुत सीसा ॥

पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी । बची द्रोपदी होति उधारी ॥

कौरव के भी गति मति मारयो । युद्ध महाभारत करि डारयो ॥

रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला । लेकर कूदि परयो पाताला ॥

शेष देव-लखि विनती लाई । रवि को मुख ते दियो छुड़ाई ॥

वाहन प्रभु के सात सुजाना । जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना ॥

जम्बुक सिह आदि नख धारी । सो फल ज्योतिष कहत पुकारी ॥

गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं । हय ते सुख सम्पत्ति उपजावै ॥

गर्दभ हानि करै बहु काजा । सिह सिद्ध्कर राज समाजा ॥

जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै । मृग दे कष्ट प्राण संहारै ॥

जब आवहिं स्वान सवारी । चोरी आदि होय डर भारी ॥

तैसहि चारि चरण यह नामा । स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा ॥

लौह चरण पर जब प्रभु आवैं । धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं ॥

समता ताम्र रजत शुभकारी । स्वर्ण सर्वसुख मंगल भारी ॥

जो यह शनि चरित्र नित गावै । कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै ॥

अद्भुत नाथ दिखावैं लीला । करैं शत्रु के नशि बलि ढीला ॥

जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई । विधिवत शनि ग्रह शांति कराई ॥

पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत । दीप दान दै बहु सुख पावत ॥

कहत राम सुन्दर प्रभु दासा । शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा ॥

पाठ शनिश्चर देव कोकी हों भक्त‘ तैयार ।

करत पाठ चालीस दिनहो भवसागर पार ॥

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आपके जीवन में भी शनि ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post : 

शनि ग्रह के उपाय || Shani Graha Ke Upay

शनि ग्रह की शांति के उपाय || Shani Grah Ki Shanti Ke Upay

शनि को मजबूत करने के उपाय || Shani Ko Majboot Karne Ke Upay

शनि को प्रसन्न करने के उपाय || Shani Ko Prasan Karne Ke Upay

शनि की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Shani Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

शनि ग्रह के लाल किताब उपाय || Shani Grah Ke Lal Kitab Upay

शनि ग्रह के मंत्र || Shani Grah Ke Mantra

दशरथ कृत शनि स्तोत्र || Dashrath Krit Shani Stotra

महाकाल शनि मृत्युंजय स्तोत्र || Mahakal Shani Mrityunjaya Stotra

शनि कवच || Shani Kavacham

श्री शनि वज्र पंजर कवचम्‌ || Sri Shani Vajra Panjar Kavacham

शनि देव के 108 नाम || Shani Dev Ke 108 Naam

शनि अष्टोत्तर शतनामावली || Shani Ashtottara Shatanamavali

श्री शनिदेव अष्टोत्तर शतनामावली || Sri Shani Dev Ashtottara Shatanamavali

श्री शनैश्चर अष्टोत्तर शतनामावली || Shri Shanaishchara Ashtottara Shatanamavali

श्री शनि अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम् || Sri Shani Ashtottara Shatanama Stotram

शनि की साढ़े साती के उपाय || Shani Ki Sade Sati Ke Upay

शनि की ढैय्या के उपाय || Shani Ki Dhaiya Ke Upay

श्री शनि देव की आरती || Shri Shani Dev Ki Aarti

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*