श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र ( Shri Rinmochak Mangal Stotra ) Rinmochak Mangal Stotram

       

श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र [ Shri Rinmochak Mangal Stotra & Rinmochak Mangal Stotram ] 

श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र के फ़ायदे : shri rinmochak mangal stotra ke fayde : श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र स्कन्द पुराण से लिया गया हैं ! श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र भगवान श्री हनुमान जी को समर्पित है ! जिस भी जातक के बहुत ऋण चढ़ गया हो यानी की कर्जा बहुत हो गया हो तो वह जातक श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का नियमित रूप से पाठ करता है तो श्री हनुमान जी के आशीवार्द और कृपा से उस जातक का कर्जा यानी की ऋण उतने लग जायेगा ! जो भी व्यक्ति श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का नियमित रूप से पाठ करता है उस जातक के जीवन पर किसी भी प्रकार का ऋण नही लेना पड़ेगा ! यदि आप नियमित जाप नही कर सकते तो आप श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का मंगलवार के दिन पाठ कर सकते हैं ! श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र, shri rinmochak mangal stotra, rinmochak mangal stotram, ऋणमोचक मंगल स्तोत्रम, श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र के फ़ायदे, shri rinmochak mangal stotra ke fayde, श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र के लाभ, shri rinmochak mangal stotra ke labh, shri rinmochak mangal stotra benefits, shri rinmochak mangal stotra in sanskrit, shri rinmochak mangal stotram, shri rinmochak mangal stotra mp3 download, shri rinmochak mangal stotra lyrics, shri rinmochak mangal stotra pdf आदि के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500  shri rinmochak mangal stotra by acharya pandit lalit sharma 

श्री ऋणमोचक मंगल स्तोत्र !! shri rinmochak mangal stotra in hindi

|| श्रीगणेशाय नमः||

मङ्गलो भूमिपुत्रश्च ऋणहर्ता धनप्रदः ।

स्थिरासनो महाकयः सर्वकर्मविरोधकः ॥१॥

लोहितो लोहिताक्षश्च सामगानां कृपाकरः ।

धरात्मजः कुजो भौमो भूतिदो भूमिनन्दनः॥२॥

अङ्गारको यमश्चैव सर्वरोगापहारकः ।

व्रुष्टेः कर्ताऽपहर्ता च सर्वकामफलप्रदः॥३॥

एतानि कुजनामनि नित्यं यः श्रद्धया पठेत ।

ऋणं न जायते तस्य धनं शीघ्रमवाप्नुयात ॥४॥

धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम ।

कुमारं शक्तिहस्तं च मङ्गलं प्रणमाम्यहम ॥५॥

स्तोत्रमङ्गारकस्यैतत्पठनीयं सदा नृभिः ।

न तेषां भौमजा पीडा स्वल्पाऽपि भवति क्वचित ॥६॥

अङ्गारक महाभाग भगवन्भक्तवत्सल ।

त्वां नमामि ममाशेषमृणमाशु विनाशय ॥७॥

ऋणरोगादिदारिद्रयं ये चान्ये ह्यपमृत्यवः ।

भयक्लेशमनस्तापा नश्यन्तु मम सर्वदा ॥८॥

अतिवक्त्र दुरारार्ध्य भोगमुक्त जितात्मनः ।

तुष्टो ददासि साम्राज्यं रुश्टो हरसि तत्ख्शणात ॥९॥विरिं

चिशक्रविष्णूनां मनुष्याणां तु का कथा ।

तेन त्वं सर्वसत्त्वेन ग्रहराजो महाबलः ॥१०॥

पुत्रान्देहि धनं देहि त्वामस्मि शरणं गतः ।

ऋणदारिद्रयदुःखेन शत्रूणां च भयात्ततः ॥११॥

एभिर्द्वादशभिः श्लोकैर्यः स्तौति च धरासुतम ।

महतिं श्रियमाप्नोति ह्यपरो धनदो युवा ॥१२॥

॥ इति श्री ऋणमोचक मङ्गलस्तोत्रम सम्पूर्णम् ॥

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : कालसर्प दोष के उपाय : Click Here

जानें : कालसर्प दोष शांति मंत्र : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*