श्री हनुमान जी की पूजा विधि ( Shri Hanuman Ji Ki Puja Vidhi ) Hanuman Ji Ki Puja Karne Ki Vidhi

       

श्री हनुमान जी की पूजा विधि [ Shri Hanuman Ji Ki Puja Vidhi & Hanuman Ji Ki Puja Karne Ki Vidhi ] 

हम आपको आज श्री हनुमान जी की सरल पूजन विधि hanuman puja vidhi बताने जा रहे है ! आप हमारे द्वारा बताये गये श्री हनुमान जी की पूजन विधि shri hanuman puja vidhi in hindi से श्री हनुमान जी को खुश कर सकते है व् अपनी मनोकामना पूरी करवा सकते हैं ! यह विधि से आप हर दिन अपने नित्य कर्म से निवृत होकर श्री हनुमान जी की पूजा विधि में भी के सकते हैं ! यदि आप हर दिन पूजा नही कर सकते तो शनिवार और मंगलवार के दिन कर सकते है ! पूजन करते समय शरीर, कपडे, बोल और आचरण की पवित्रता का खास ध्यान रखें ! यंहा हम आपको कैसे करें श्री हनुमान जी की पूजा, kaise kare shri hanuman ji ki puja, हनुमान जी की पूजा कैसे करनी चाहिए, hanuman ji ki puja kaise karni chahiye, हनुमान जी की पूजा करने की विधि, hanuman ji ki puja karne ki vidhi, मंगलवार की पूजा कैसे करें, mangalwar ki puja kaise kare, मंगलवार को श्री हनुमान जी पूजा विधि, mangalwar ko shri hanuman ji puja vidhi आदि के बारे में बताने जा रहे हैं !! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Sharma द्वारा बताये जा रहे श्री हनुमान जी की पूजा विधि ( Shri Hanuman Ji Ki Puja Vidhi & Hanuman Ji Ki Puja Karne Ki Vidhi ) को पढ़कर आप भी बहुत आसन तरीके से श्री हनुमान जी पूजा करके उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकोगें !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 shri hanuman ji ki puja vidhi by acharya pandit lalit sharma

श्री हनुमान पूजा सामग्री : shri hanuman puja samagri 

देव मूर्ति के स्नान के लिए तांबे का पात्र, तांबे का लोटा, जल का कलश, दूध, देव मूर्ति को अर्पित किए जाने वाले वस्त्र व आभूषण। सिंदूर, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, फूल, चावल। प्रसाद के लिए फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, सूखे मेवे, शक्कर, पान, दक्षिणा ।

श्री हनुमान पूजन सकंल्प विधि : shri hanuman pujan sankalpa vidhi

पूजन शुरू करने से पहले सकंल्प लें । संकल्प करने से पहले हाथों में जल, फूल व चावल लें। सकंल्प में जिस दिन पूजन कर रहे हैं उस वर्ष, उस वार, तिथि उस जगह और अपने नाम को लेकर अपनी इच्छा बोलें। अब हाथों में लिए गए जल को जमीन पर छोड़ दें ।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

संकल्प कैसे लें : sankalpa kaise le

जैसे आप 19/11/2017 को श्री हनुमान जी का पूजन किया जाना है । तो इस प्रकार संकल्प लें । मैं ( अपना स्वयं का नाम बोलें  ) विक्रम संवत् 2074 को, मार्गशीर्ष मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को, अनुराधा नक्षत्र में, भारत देश के राजस्थान राज्य के जयपुर में अपने स्वयं के घर ( जंहा आप पूजन कर रहे हो उस स्थान का नाम लें )  में इस मनोकामना से ( अपनी मनोकामना बोलें  ) श्री हनुमान का पूजन कर रहा हूं ।

श्री हनुमान पूजन विधि : shri hanuman pujan vidhi 

श्री हनुमान जी का पूजन करते समय सबसे पहले कंबल या ऊन के आसन ( संभव हो सके तो लाल रंग का ) पर पूर्व दिशा व् उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठ जाएं । सर्वप्रथम भगवान श्री गणेश जी का पूजन करें । श्री गणेश जी को स्नान कराकर उन्हें वस्त्र अर्पित करें । गंध, पुष्प , धूप ,दीप, अक्षत से पूजन करें । उसके बाद अब भगवान श्री हनुमान जी का पूजन करें । पहले श्री हनुमान जी को पंचामृत व् जल से स्नान कराएं । उन्हें वस्त्र अर्पित करें । वस्त्रों के बाद आभूषण पहनाएं । अब पुष्पमाला पहनाएं । अब तिलक करें । “ऊँ ऐं हनुमते रामदूताय नमः” मंत्र का उच्चारण करते हुए श्री हनुमान जी को सिंदूर का तिलक लगाएं । अब धूप व दीप अर्पित करें । फूल अर्पित करें । श्रद्धानुसार घी या तेल का दीपक लगाएं । इसके पश्चात अपने हाथ में चावल व फूल लें व इस मंत्र का उच्चारण करते हुए श्री हनुमान जी का ध्यान करें : 

हनुमान जी का ध्यान मंत्र : hanuman ji ka dhyan mantra

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं

दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यं।

सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं

रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि।।

ऊँ हनुमते नम: ध्यानार्थे पुष्पाणि सर्मपयामि।।

मंत्र उच्चारण करने के बाद हाथ में लिया हुआ चावल व फूल श्री हनुमान जी को अर्पित कर दें।

इसके बाद हाथ में फूल लेकर इस मंत्र का उच्चारण करते हुए श्री हनुमान जी का आवाह्न करें एवं उन फूलों को हनुमानजी को अर्पित कर दें।

हनुमान जी का आवाहन मंत्र : hanuman ji ka aavahan mantra

उद्यत्कोट्यर्कसंकाशं जगत्प्रक्षोभकारकम्।

श्रीरामड्घ्रिध्याननिष्ठं सुग्रीवप्रमुखार्चितम्।।

विन्नासयन्तं नादेन राक्षसान् मारुतिं भजेत्।।

ऊँ हनुमते नम: आवाहनार्थे पुष्पाणि समर्पयामि।।

नीचे लिखे मंत्र का उच्चारण करते हुए श्री हनुमान जी को आसन अर्पित करें ( आसन के लिए कमल अथवा गुलाब का फूल अर्पित करें ) अथवा चावल या पत्ते आदि का भी उपयोग हो सकता है ! 

हनुमान जी का आसन मंत्र : hanuman ji ka asan mantra 

तप्तकांचनवर्णाभं मुक्तामणिविराजितम्।

अमलं कमलं दिव्यमासनं प्रतिगृह्यताम्।।

इसके बाद इन मंत्रों का उच्चारण करते हुए श्री हनुमानजी के सामने किसी बर्तन अथवा भूमि पर तीन बार जल छोड़ें ! 

हनुमान जी का पूजा मंत्र : hanuman ji ka puja mantra

ऊँ हनुमते नम:,

पाद्यं समर्पयामि।। 

अध्र्यं समर्पयामि।

आचमनीयं समर्पयामि।।

इसके बाद श्री हनुमानजी को गंध, सिंदूर, कुंकुम, चावल, फूल व हार अर्पित करें।

अब इस मंत्र का उच्चारण करते हुए श्री हनुमान जी को धूप-दीप दिखाएं : 

मंत्र : 

साज्यं च वर्तिसंयुक्तं वह्निना योजितं मया।

दीपं गृहाण देवेश त्रैलोक्यतिमिरापहम्।।

भक्त्या दीपं प्रयच्छामि देवाय परमात्मने।।

त्राहि मां निरयाद् घोराद् दीपज्योतिर्नमोस्तु ते।।

ऊँ हनुमते नम:, दीपं दर्शयामि।।

इसके बाद केले के पत्ते पर या किसी कटोरी में पान के पत्ते के ऊपर प्रसाद रखें और श्री हनुमानजी को अर्पित कर दें तत्पश्चात ऋतुफल अर्पित करें। ( प्रसाद में चूरमा, भीगे हुएचने या गुड़ चढ़ाना उत्तम रहता है। )

इसके बाद एक थाली में कर्पूर एवं घी का दीपक जलाकर श्री हनुमानजी की आरती करें। इस प्रकार पूजन करने से हनुमानजी अति प्रसन्न होते हैं तथा साधक की हर मनोकामनापूरी करते हैं। 

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

दिए गये मंत्र को पढ़कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें : 

मंत्र :

ॐ बलसिद्धिकराय नम:

ॐ वज्रकायाय नम:

ॐ महावीराय नम:

ॐ रक्षोविध्वंसकाराय नम:

ॐ सर्वरोगहराय नम:

विशेष : मंत्र जप ( “ऊँ ऐं हनुमते रामदूताय नमः” मंत्र का जाप कर सकते है यदि आपको कोई श्री हनुमान जी का मंत्र नहीं पता हो तो ) के बाद यथासंभव श्री हनुमान चालीसा पाठ का पाठ करें। श्री हनुमान की दीप और कपूर से आरती करें । आरती के पश्चात् परिक्रमा करें ! पूजा, मंत्र जप और आरती के दौरान हुए जाने-अनजाने दोषों के लिए क्षमा प्रार्थना कर सारी परेशानियों और चिंतामुक्ति के लिए कामना करें ।

नोट : बताई गई श्री हनुमान जी की पूजा विधि आप मंगलवार ( mangalwar ko hanuman ji ki puja vidhi in hindi ) के दिन इस विधि से कर सकते हैं ! 

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

हमारे Youtube चैनल को अभी SUBSCRIBES करें ||

मांगलिक दोष निवारण || Mangal Dosha Nivaran

दी गई YouTube Video पर क्लिक करके मांगलिक दोष के उपाय || Manglik Dosh Ke Upay बहुत आसन तरीके से सुन ओर देख सकोगें !

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : श्री हनुमान जी के उपाय : Click Here

जानें : श्री हनुमान जी के मंत्र : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*