मंगलवार व्रत की आरती ( Mangalvar Vrat Ki Aarti ) Mangalvar Ki Aarti

       

मंगलवार व्रत की आरती [ Mangalvar Vrat Ki Aarti & Mangalvar Ki Aarti ]

मंगलवार व्रत की आरती के लाभ : mangalvar vrat ki aarti ke labh : जो भी व्यक्ति मंगलवार का उपवास करते है और मंगलवार की पूजा अर्चना में मंगलवार व्रत की आरती गाई जाती हैं ! मंगलवार व्रत की आरती, mangalvar vrat ki aarti in hindi, mangalvar ki aarti in hindi, मंगलवार व्रत की आरती के फ़ायदे, mangalvar vrat ki aarti ke fayde in hindi, मंगलवार व्रत की आरती के लाभ, mangalvar vrat ki aarti ke labh in hindi, mangalvar vrat ki aarti mp3 download, mangalvar vrat ki aarti pdf in hindi, mangalvar vrat ki aarti lyrics in hindi, mangalvar vrat ki aarti ke benefits in hindi, मंगलवार की आरती आदि के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 mangalvar vrat ki aarti by acharya pandit lalit sharma 

मंगलवार व्रत की आरती !! mangalvar vrat ki aarti in hindi

मंगल मूरति जय जय हनुमंता, मंगल-मंगल देव अनंता ।

हाथ व्रज और ध्वजा विराजे, कांधे मूंज जनेऊ साजे ।

शंकर सुवन केसरी नंदन, तेज प्रताप महा जगवंदन ।

लाल लंगोट लाल दोऊ नयना, पर्वत सम फारत है सेना ।

काल अकाल जुद्ध किलकारी, देश उजारत क्रुद्ध अपारी ।

रामदूत अतुलित बलधामा, अंजनि पुत्र पवनसुत नामा ।

महावीर विक्रम बजरंगी, कुमति निवार सुमति के संगी ।

भूमि पुत्र कंचन बरसावे, राजपाट पुर देश दिवावे ।

शत्रुन काट-काट महिं डारे, बंधन व्याधि विपत्ति निवारे ।

आपन तेज सम्हारो आपै, तीनों लोक हांक ते कांपै ।

सब सुख लहैं तुम्हारी शरणा, तुम रक्षक काहू को डरना ।

तुम्हरे भजन सकल संसारा, दया करो सुख दृष्टि अपारा ।

रामदण्ड कालहु को दण्डा, तुम्हरे परसि होत जब खण्डा ।

पवन पुत्र धरती के पूता, दोऊ मिल काज करो अवधूता ।

हर प्राणी शरणागत आए, चरण कमल में शीश नवाए ।

रोग शोक बहु विपत्ति घराने, दुख दरिद्र बंधन प्रकटाने ।

तुम तज और न मेटनहारा, दोऊ तुम हो महावीर अपारा ।

दारिद्र दहन ऋण त्रासा, करो रोग दुख स्वप्न विनाशा ।

शत्रुन करो चरन के चेरे, तुम स्वामी हम सेवक तेरे ।

विपति हरन मंगल देवा, अंगीकार करो यह सेवा ।

मुद्रित भक्त विनती यह मोरी, देऊ महाधन लाख करोरी ।

श्रीमंगलजी की आरती हनुमत सहितासु गाई ।

होई मनोरथ सिद्ध जब अंत विष्णुपुर जाई ।आरती |

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : तुलसी पूजा विधि व् मंत्र : Click Here

जानें : तुलसी के उपाय : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*